स्कूल  की संस्कृति School Culture

 स्कूल  की संस्कृति

School Culture, Leadership and Teacher Development

“स्कूल की संस्कृति School Culture किसी स्कूल के वे विश्वास, मूल्य, परंपरा एवं व्यवहार हैं जो विद्यालय के संचालन एवं विद्यार्थियों के सीखने को प्रभावित करता है (School culture is the beliefs, values and behavior of a school that influence the conduct of the school and the learning of the students.)”

अर्थात किसी स्कूल के विश्वास, मूल्य, परंपरा एवं व्यवहार स्कूल संचालन तथा बच्चों के सीखने की दृष्टि से सकारात्मक एवं नकारात्मक हो सकते हैं। एक शिक्षक को या प्रधान पाठक को एक नेतृत्वकर्ता होने के नाते इसी सकारात्मकता या नकारात्मकता की पहचान करने में सक्षम होने चाहिए। साथ ही इस तथ्य से भी परिचित होने की आवश्यकता होगी कि किस प्रकार के विश्वास, मूल्य, परंपरा एवं व्यवहार स्कूल संचालन एवं बच्चों के सीखने को प्रभावित करता है। इस दृष्टि से देखा जाए तो एक नेतृत्वकर्ता के लिए ये पहचान करने का कौशल एक अनिवार्य कौशल बन जाता है। अंततः इस कौशल की सहायता से एक प्रधान पाठक / शिक्षक विद्यार्थियों को शिक्षा के अंतिम लक्ष्य जो संविधान की प्रस्तावना में परिकल्पित है, तक पहुँचने में मदद कर सकता है।

स्कूल की संस्कृति School Culture
School Culture

स्कूल संस्कृति की पहचान

इसके लिए सबसे पहले किसी स्कूल में वर्तमान में प्रचलित स्कूल की संस्कृति School Culture की पहचान निष्पक्ष होकर करनी होगी। जिसके लिए स्कूल के प्रधान अध्यापक एवं सभी शिक्षकों को संयुक्त रूप से कार्य करना होगा। इसकी पहचान करने / शुरुआत करने के लिए हमें कुछ प्रश्न उठाने होंगे। 

स्कूल संस्कृति की पहचान के लिए कुछ सवाल – 

  • क्या स्कूल स्तर पर लिए जाने वाले निर्णयों में बच्चे-शिक्षक-प्रधान पाठक सभी शामिल होते हैं? उदाहरण के लिए शाला में मनाए जाने वाले वार्षिक / सांस्कृतिक कार्यक्रम, प्रार्थना सभा / बाल सभा मनाए जाने का निर्णय।
  • ऐसी सभाओं में सभी बच्चों को उनकी क्षमता व रुचि के अनुसार अवसर दिए जाते हैं?
  • स्कूल में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों आदि में क्या सभी बच्चे शामिल होते हैं या अवसर दिए जाते हैं?
  • जब बच्चों या शिक्षकों के बीच किसी मुद्दे को लेकर विवाद होता है उस स्थिति में विवाद का निपटारा किस प्रकार किया जाता है?
  • शाला परिसर में (और बाहर भी) जब किसी बच्चे को या शिक्षक को किसी अन्य व्यक्ति की कोई वस्तु मिलती है तो आमतौर और पक्के तौर पर भी उस वस्तु का क्या किया जाता है? क्या उस वस्तु को स्कूल के कार्यालय / प्रधान पाठक के कक्ष में जमा कर दिया जाता है?
  • एक दूसरे का अभिवादन वरिष्ठता के आधार पर किए जाते हैं या कोई भी किसी को कर लेता है?
  • यह कहा जा सकता है कि वरिष्ठता के आधार पर अभिवादन पदानुक्रम में छोटे–बड़े का एहसास कराने वाला होता है।
  • अच्छी संस्कृति के तहत शिक्षक कक्षा में प्रवेश करते ही बच्चों को नमस्ते / अभिवादन करते हैं।
  • कक्षा में बच्चों की बैठक व्यवस्था किसी खास नियम से संचालित होते हैं या किसी भी बच्चे को कहीं भी बैठने की आजादी होती है?
  • कक्षा शिक्षण प्रक्रिया के दौरान लिंग, जाति, धर्म, वर्ग के आधार पर किसी प्रकार का भेदभाव होता है?
  • भेदभाव के  बिना कक्षा में सभी को अपनी बात रखने का अवसर दिया जाता है?

कुछ और सवाल 

हम कुछ और सवालों के माध्यम से स्कूल की संस्कृति की पहचान करने का प्रयास करते हैं –

  • शाला / कक्षा में क्या बच्चे अपनी बात निर्भीक होकर रखते हैं? राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की की रूपरेखा (एन. सी. एफ़.) 2005 में यह साफ लिखा है “शिक्षकों को अपनी कक्षाओं को ऐसी जगह बना देनी चाहिए जहां किसी चलते हुए पाठ के दौरान बच्चे खुल कर प्रश्न पूछ पाएँ और अपने सहपाठियों और शिक्षक के साथ संवाद कर पाएँ।“
  • मध्याह्न भोजन में सभी बच्चे एक साथ बैठकर ग्रहण करते हैं या कुछ समूहों के आधार पर?
  • बच्चों के अभिभावक स्कूल के लिए मेहमान होते हैं या सदस्य?
  • विद्यालय का सामाजिक वातावरण कैसा है अर्थात क्या बच्चे विद्यालय में सुरक्षित एवं अपनापन महसूस करते हैं?
  • सभी बच्चों को अपने उच्चतम प्रदर्शन के लिए प्रेरित किया जाता है?
  • बच्चों को पुस्तकालय का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहन एवं वातावरण मिलता है?
  • शाला में सभी प्रकार के शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न को समाप्त कर दिया गया है?
  • विद्यालय में अनुशासन व छात्र – शिक्षक सम्बन्धों को नए सिरे से परिभाषित किया गया है?
  • सीखने के लिए बच्चे (शिक्षक भी) आपस में सहयोग करते हैं?
  • विद्यालय में शिक्षकों व बच्चों के लिए अपने अनुभवों को साझा करने के लिए कोई मंच है?
  • छात्रों के कामों को एक निश्चित अंतराल में विशेष कर समुदाय / अभिभावकों के समक्ष प्रदर्शित करने की परंपरा है?
  • विद्यालय प्रमुख से मिलने के लिए स्टाफ को – बच्चों को पूर्व अनुमति लेना पड़ता है?
  • विद्यालय में प्रत्येक विद्यार्थी की अपनी मातृ भाषा का सम्मान होता है?
  • स्कूल इस बात पर विश्वास करती है कि बच्चे फेल नहीं होते बल्कि ये केवल स्कूल की असफलता है ?

उपरोक्त सवालों की सूची लंबी हो सकती है, जिसके उत्तर ईमानदारी से हाँ या नहीं में देकर अपनी शाला की संस्कृति के बारे में जाना जा सकता है कि शाला में किस सीमा तक कार्य करने की कितनी आवश्यकता है। बेहतर होगा यदि उपरोक्त प्रश्नों के उत्तर में कुछ प्रमाण एकत्र कर लिए जाएँ जिससे कि सभी के मध्य अर्थात शिक्षकों व प्रधान अध्यापकों के मध्य इस दिशा में सुधारात्मक पहल करने की सहमति बन जाए। यह भी सोचा जाना चाहिए कि यदि उपरोक्त सभी सवालों के उत्तर सकारात्मक है, इसके बावजूद बच्चे अपनी आयु / कक्षा के अनुरूप नहीं सीख रहें हैं तो हमें उपरोक्त सवालों पर पुनः चिंतन और विश्लेषण करने की जरूरत होगी क्योंकि स्कूल की संस्कृति बच्चों की उपलब्धि को अनिवार्यतः प्रभावित करती है।

स्कूल की संस्कृति School Culture और बच्चों के सीखने के मध्य संबंध

इसे हम कुछ उदाहरणों से समझते हैं । जैसे-

  • शाला स्तर पर लिए गए निर्णय में शाला के सभी हित धारकों को शामिल करें  इससे बच्चों में प्रजातांत्रिक मूल्यों का विकास होगी।
  • हितधारक से आशय है- शिक्षक, प्रधान पाठक, बच्चे, समुदाय आदि।
  • जब एक साथ सभी बच्चे मध्याह्न भोजन करते हैं तो उनमें बंधुत्व की भावना आती है।
  • संविधान की प्रस्तावना में परिकल्पित समाज के लिए बच्चों में बंधुत्व जरूरी एवं आवश्यक मूल्य है।

कक्षा में शिक्षण प्रक्रिया के दौरान निर्भीक होकर प्रश्न पुछने की संस्कृति बच्चों को जिज्ञासु बनाने में सक्षम होगी। ये  संस्कृति बच्चों को स्वयं ज्ञान की रचना करने में सक्षम बनाती है। इसी तरह ऊपर उठाए गए सभी सवालों पर हम चिंतन व विश्लेषण करें कि इससे बच्चों का सीखना कैसे प्रभावित होता है। इस तरह स्कूल की संस्कृति से बच्चों के सीखने को सुनिश्चित कर सकते हैं  और हम अंततः संवैधानिक मूल्यों पर आधारित समाज बनाने में हम सफल हो सकते हैं और यही शिक्षा का अंतिम उद्देश्य भी है।

मित्रों, इस लेख पर आपके विचार आमंत्रित हैं ।

अन्य लेखों के लिए हमें Subscribe अवश्य करें जिससे हमारे लेख आप तक पहुँचते रहें।

 

 

 

 

 

 

 

 

3 thoughts on “स्कूल  की संस्कृति School Culture

  1. लेख सरल और सहज है .इसे वास्तविक स्थितियों से जोड़ते हुए इसमें आप कुछ केस स्टडी भी डाल सकते है जैसे कुछ दिन पहले एक स्कूल में मैंने बच्चों से कहा कि आप लोग अपने कक्षा के नियम क्यों नही बनाते है तो उन्होंने एक सप्ताह बाद जब मै गई तो उन्होंने आपस में बात करके बोर्ड पर लिखे हुए थे इसी तरह कचरा फेकने के लिए उनसे ही वेस्ट material से कचरा पेटी बनवाई अब वे उसी में कचरा डालते है . वास्तव में यदि शिक्षक से पूछेंगे तो list में अधिकांश बिंदु पर टीक कर देंगे लेकिन उसे व्यवहारिक जीवन में कक्षा में इम्प्लीमेंट नही करते है . मै इस आर्टिकल के अराउंड काम करके आपके साथ साझा करने की कोशिश करुँगी .

    1. अपनी राय साझा करने के लिए धन्यवाद। आपके सुझाव को शामिल करने का प्रयास करूंगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.